Ads 468x60px

Your Add Here Contact me . Add size is 468*60

Labels

Featured Posts

Wish you a Happy New Year

Wish you a Happy New Year

Wish you a Very Happy New Year

Wish you a Happy New Year

Wish you a Very Happy New Year

Friday, March 21, 2014

How to Creating Content Tabs with Pure CSS


Creating Content Tabs with Pure CSS it's very simple Try to this code
HTML Code here
<ul class="tabs">
<li> <input type="radio" checked name="tabs" id="tab1">
<label for="tab1"> tab 1</label>
<div id="tab-content1" class="tab-content"> Tab Content 1 </div> </li>

<li> <input type="radio" name="tabs" id="tab2"> <label for="tab2">
tab 2</label>
<div id="tab-content2" class="tab-content">
Tab Content 2 </div> </li>

<li>
<input type="radio" name="tabs" id="tab3">
<label for="tab3"> tab 3</label>
<div id="tab-content3" class="tab-content">
Tab Content 3 </div> </li>
</ul>
Css Code here

body, html {
height: 100%;
margin: 0;
-webkit-font-smoothing: antialiased;
font-weight: 100;
background:#90f286 ;
text-align: center;
font-family: arial;
}

.tabs input[type=radio] {
display:none;
}

.tabs {
width: 600px;
list-style: none;
position: relative;
padding: 0;
margin: 75px auto;
}

.tabs li{
float: left;
}

.tabs label {
display: block;
padding: 10px 20px;
border-radius: 2px 2px 0 0;
color: #000;
font-size: 24px;
font-weight: normal;
background: rgba(0,0,0,0.2);
cursor: pointer;
position: relative;
margin-top:3px;
-webkit-transition: all 0.2s ease-in-out;
-moz-transition: all 0.2s ease-in-out;
-o-transition: all 0.2s ease-in-out;
transition: all 0.2s ease-in-out;
}

.tabs label:hover {
background: #0a71a5;
color:#fff;
top: 0;
}

[id^=tab]:checked + label {
background: #0a71a5;
color: white;
top: 0;
}

[id^=tab]:checked ~ [id^=tab-content] {
display: block;
}

.tab-content{
z-index: 2;
display: none;
text-align: left;
font-size: 20px;
padding-top: 10px;
background: #0a71a5;
padding: 15px;
color: white;
position: absolute;
top: 51px;
left: 0;
right:0;
box-sizing: border-box;
-webkit-animation-duration: 0.5s;
-o-animation-duration: 0.5s;
-moz-animation-duration: 0.5s;
animation-duration: 0.5s;
}

Demo Jsfiddle

Section have a fixed position when it hits the top of the screen

How to do this it's very simple here example see below .
Jquery Code
var oritop = -100;
$(window).scroll(function() {
var scrollt = $(this).scrollTop();
var elm = $(".scrollTopWindow");
if(oritop < 0) {
oritop= elm.offset().top;
}
if(scrollt >= oritop) {
elm.css({"position": "fixed", "top": 0, "left": 0});
}
else {
elm.css("position", "static");
}
});
Css here code as Sample
body{height:2000px}
.scrollTopWindow {
background-color: red;
width: 150px;
height: 100px;
color: white;
padding:20px;
}
HTML Code here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
Some Content here
<div class = "scrollTopWindow"> Scroll top window and fix me ! </div>

Demo Jsfiddle

Wednesday, March 5, 2014

How to create a tooltips with jQuery

simple idea to create a tooltips
HTML
<input type="text" title="Here put your toottips text " />
CSS
.autoSugest{background:#fffdef;border:1px solid #cac6ad;
-webkit-border-radius:4px;
-moz-border-radius:4px;
border-radius:4px;color:#7f7943;
display:none;
font-size:12px;
padding:7px 15px;
position:absolute;
min-width:100px;
-o-box-sizing:border-box;
-ms-box-sizing:border-box;
-webkit-box-sizing:border-box;
-moz-box-sizing:border-box;
box-sizing:border-box;}
.autoSugest:after{
content:url("../../images/tootl-tip-arrow.png"); height:8px;
width:11px;
position:absolute;
top:-13px;
left:38px}
Jquery
$.fn.autoSuggest = function(){ return this.each(function(index, elm){
if(!$(elm).is('[data-title]')){
$(elm).attr('data-title', $(elm).attr('title')).attr('title', '');
};

$(elm).on('focus', function(){
var element = $(this),
posTop = element.offset().top + element.outerHeight() + 10,
posLeft = element.offset().left,
toolTipWidth = element.outerWidth() > 90 ? element.outerWidth() : 250,
titleText = element.attr('data-title');
if(titleText && titleText != ''){
$('<div />', {class: 'autoSugest', text : titleText, css : {left: posLeft, top: posTop, maxWidth: toolTipWidth}}).appendTo('body').fadeIn();
}else{
return false;
}
});
$(elm).on('blur', function(){
$('.autoSugest').fadeOut(function(){
$(this).remove();
});
});
}); };
$(document).ready(function(){
    $('input[title]').autoSuggest(); });
 

Tuesday, February 25, 2014

How to used in alert in java script


alert in java script
<script type="text/javascript">
            alert("Hello world !");
 </script>

Tuesday, July 9, 2013

One Click Select all Checkbox in Jquery


HTML
<label for="selectAll"><input type="checkbox" id="selectAll"> Select all</label>

<label for="ceckbox_1"><input type="checkbox" id="ceckbox_1" class="selectbox">Checkbox One</label>

<label for="ceckbox_2"><input type="checkbox" id="ceckbox_2" class="selectbox">Checkbox Two</label>

<label for="ceckbox_3"><input type="checkbox" id="ceckbox_3" class="selectbox">Checkbox Three</label>
Jquery
    $(document).ready(function(){
        $('#selectAll').on('click', function(){
            $('.selectbox').attr('checked', $(this).is(":checked"));
        });
    });

Demo Link

Thursday, April 18, 2013

नवरात्रि क्या है ?? और नवरात्र का वैज्ञानिक और आध्यात्मिक रहस्य ::

नवरात्रि क्या है ?? और नवरात्र का वैज्ञानिक और आध्यात्मिक रहस्य ::

नवरात्र शब्द से नव अहोरात्रों (विशेष रात्रियां) का बोध होता है। इस समय शक्ति के नव रूपों की उपासना की जाती है। 'रात्रि' शब्द सिद्धि का प्रतीक है।

भारत के प्राचीन ऋषियों-मुनियों ने रात्रि को दिन की अपेक्षा अधिक महत्व दिया है, इसलिए दीपावली, होलिका, शिवरात्रि और नवरात्र आदि उत्सवों को रात में ही मनाने की परंपरा है। यदि रात्रि का कोई विशेष रहस्य न होता,... तो ऐसे उत्सवों को रात्रि न कह कर दिन ही कहा जाता। लेकिन नवरात्र के दिन, नवदिन नहीं कहे जाते।

मनीषियों ने वर्ष में दो बार नवरात्रों का विधान बनाया है। विक्रम संवत के पहले दिन अर्थात चैत्र मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा (पहली तिथि) से नौ दिन अर्थात नवमी तक। और इसी प्रकार ठीक छह मास बाद आश्विन मास शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से महानवमी अर्थात विजयादशमी के एक दिन पूर्व तक। परंतु सिद्धि और साधना की दृष्टि से शारदीय नवरात्रों को ज्यादा महत्वपूर्ण माना गया है।इन नवरात्रों में लोग अपनी आध्यात्मिक और मानसिक शक्ति संचय करने के लिए अनेक प्रकार के व्रत, संयम, नियम, यज्ञ, भजन, पूजन, योग साधना आदि करते हैं। कुछ साधक इन रात्रियों में पूरी रात पद्मासन या सिद्धासन में बैठकर आंतरिक त्राटक या बीज मंत्रों के जाप द्वारा विशेष सिद्धियां प्राप्त करने का प्रयास करते हैं।

नवरात्रों में शक्ति के 51 पीठों पर भक्तों का समुदाय बड़े उत्साह से शक्ति की उपासना के लिए एकत्रित होता है। जो उपासक इन शक्ति पीठों पर नहीं पहुंच पाते, वे अपने निवास स्थल पर ही शक्ति का आह्वान करते हैं।

आजकल अधिकांश उपासक शक्ति पूजा रात्रि में नहीं, पुरोहित को दिन में ही बुलाकर संपन्न करा देते हैं। सामान्य भक्त ही नहीं, पंडित और साधु-महात्मा भी अब नवरात्रों में पूरी रात जागना नहीं चाहते। न कोई आलस्य को त्यागना चाहता है। बहुत कम उपासक आलस्य को त्याग कर आत्मशक्ति, मानसिक शक्ति और यौगिक शक्ति की प्राप्ति के लिए रात्रि के समय का उपयोग करते देखे जाते हैं।मनीषियों ने रात्रि के महत्व को अत्यंत सूक्ष्मता के साथ वैज्ञानिक परिप्रेक्ष्य में समझने और समझाने का प्रयत्न किया। रात्रि में प्रकृति के बहुत सारे अवरोध खत्म हो जाते हैं। आधुनिक विज्ञान भी इस बात से सहमत है। हमारे ऋषि - मुनि आज से कितने ही हजारों वर्ष पूर्व ही प्रकृति के इन वैज्ञानिक रहस्यों को जान चुके थे।

दिन में आवाज दी जाए तो वह दूर तक नहीं जाएगी , किंतु रात्रि को आवाज दी जाए तो वह बहुत दूर तक जाती है। इसके पीछे दिन के कोलाहल के अलावा एक वैज्ञानिक तथ्य यह भी है कि दिन में सूर्य की किरणें आवाज की तरंगों और रेडियो तरंगों को आगे बढ़ने से रोक देती हैं। रेडियो इस बात का जीता - जागता उदाहरण है। कम शक्ति के रेडियो स्टेशनों को दिन में पकड़ना अर्थात सुनना मुश्किल होता है , जबकि सूर्यास्त के बाद छोटे से छोटा रेडियो स्टेशन भी आसानी से सुना जा सकता है।

वैज्ञानिक सिद्धांत →
वैज्ञानिक सिद्धांत यह है कि सूर्य की किरणें दिन के समय रेडियो तरंगों को जिस प्रकार रोकती हैं, उसी प्रकार मंत्र जाप की विचार तरंगों में भी दिन के समय रुकावट पड़ती है। इसीलिए ऋषि - मुनियों ने रात्रि का महत्व दिन की अपेक्षा बहुत अधिक बताया है। मंदिरों में घंटे और शंख की आवाज के कंपन से दूर - दूर तक वातावरण कीटाणुओं से रहित हो जाता है। यह रात्रि का वैज्ञानिक रहस्य है। जो इस वैज्ञानिक तथ्य को ध्यान में रखते हुए रात्रियों में संकल्प और उच्च अवधारणा के साथ अपने शक्तिशाली विचार तरंगों को वायुमंडल में भेजते हैं , उनकी कार्यसिद्धि अर्थात मनोकामना सिद्धि , उनके शुभ संकल्प के अनुसार उचित समय और ठीक विधि के अनुसार करने पर अवश्य होती है।

नवरात्र या नवरात्रि →
संस्कृत व्याकरण के अनुसार नवरात्रि कहना त्रुटिपूर्ण हैं। नौ रात्रियों का समाहार, समूह होने के कारण से द्वन्द समास होने के कारण यह शब्द पुलिंग रूप 'नवरात्र' में ही शुध्द है।

नवरात्र क्या है →
पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा के काल में एक साल की चार संधियाँ हैं। उनमें मार्च व सितंबर माह में पड़ने वाली गोल संधियों में साल के दो मुख्य नवरात्र पड़ते हैं। इस समय रोगाणु आक्रमण की सर्वाधिक संभावना होती है। ऋतु संधियों में अक्सर शारीरिक बीमारियाँ बढ़ती हैं, अत: उस समय स्वस्थ रहने के लिए, शरीर को शुध्द रखने के लिए और तनमन को निर्मल और पूर्णत: स्वस्थ रखने के लिए की जाने वाली प्रक्रिया का नाम 'नवरात्र' है।

नौ दिन या रात →
अमावस्या की रात से अष्टमी तक या पड़वा से नवमी की दोपहर तक व्रत नियम चलने से नौ रात यानी 'नवरात्र' नाम सार्थक है। यहाँ रात गिनते हैं, इसलिए नवरात्र यानि नौ रातों का समूह कहा जाता है।रूपक के द्वारा हमारे शरीर को नौ मुख्य द्वारों वाला कहा गया है। इसके भीतर निवास करने वाली जीवनी शक्ति का नाम ही दुर्गा देवी है। इन मुख्य इन्द्रियों के अनुशासन, स्वच्छ्ता, तारतम्य स्थापित करने के प्रतीक रूप में, शरीर तंत्र को पूरे साल के लिए सुचारू रूप से क्रियाशील रखने के लिए नौ द्वारों की शुध्दि का पर्व नौ दिन मनाया जाता है। इनको व्यक्तिगत रूप से महत्व देने के लिए नौ दिन नौ दुर्गाओं के लिए कहे जाते हैं।
शरीर को सुचारू रखने के लिए विरेचन, सफाई या शुध्दि प्रतिदिन तो हम करते ही हैं किन्तु अंग-प्रत्यंगों की पूरी तरह से भीतरी सफाई करने के लिए हर छ: माह के अंतर से सफाई अभियान चलाया जाता है। सात्विक आहार के व्रत का पालन करने से शरीर की शुध्दि, साफ सुथरे शरीर में शुध्द बुद्धि, उत्तम विचारों से ही उत्तम कर्म, कर्मों से सच्चरित्रता और क्रमश: मन शुध्द होता है। स्वच्छ मन मंदिर में ही तो ईश्वर की शक्ति का स्थायी निवास होता है।

नौ देवियाँ / नव देवी →
नौ दिन यानि हिन्दी माह चैत्र और आश्विन के शुक्ल पक्ष की पड़वा यानि पहली तिथि से नौवी तिथि तक प्रत्येक दिन की एक देवी मतलब नौ द्वार वाले दुर्ग के भीतर रहने वाली जीवनी शक्ति रूपी दुर्गा के नौ रूप हैं :

1. शैलपुत्री
2. ब्रह्मचारिणी
3. चंद्रघंटा
4. कूष्माण्डा
5. स्कन्दमाता
6. कात्यायनी
7. कालरात्रि
8. महागौरी
9. सिध्दीदात्री


इनका नौ जड़ी बूटी या ख़ास व्रत की चीजों से भी सम्बंध है, जिन्हे नवरात्र के व्रत में प्रयोग किया जाता है :

1. कुट्टू (शैलान्न)
2. दूध-दही,
3. चौलाई (चंद्रघंटा)
4. पेठा (कूष्माण्डा)
5. श्यामक चावल (स्कन्दमाता)
6. हरी तरकारी (कात्यायनी)
7. काली मिर्च व तुलसी (कालरात्रि)
8. साबूदाना (महागौरी)
9. आंवला(सिध्दीदात्री)

क्रमश: ये नौ प्राकृतिक व्रत खाद्य पदार्थ हैं।


अष्टमी या नवमी →
यह कुल परम्परा के अनुसार तय किया जाता है। भविष्योत्तर पुराण में और देवी भावगत के अनुसार, बेटों वाले परिवार में या पुत्र की चाहना वाले परिवार वालों को नवमी में व्रत खोलना चाहिए। वैसे अष्टमी, नवमी और दशहरे के चार दिन बाद की चौदस, इन तीनों की महत्ता 'दुर्गासप्तशती' में कही गई है।

Thursday, November 29, 2012

चाणक्य सूत्र

।। चाणक्य सूत्र ।।
> मुख्य चाणक्य सूत्र <

- जो बीत गया, सो बीत गया। अपने हाथ से कोई गलत काम हो गया हो तो उसकी फिक्र छोड़ते हुए वर्तमान को सलीके से जीकर भविष्य को संवारना चाहिए।

- बहादुर और बुद्धिमान व्यक्ति अपना रास्ता खुद बनाते हैं। असंभव शब्द का इस्तेमाल बुजदिल करते हैं।

- अपनी कमाई में से धन का कुछ प्रतिशत हिस्सा संकट काल के लिए हमेशा बचाकर रखें।

- अपने परिवार पर संकट आए तो जमा धन कुर्बान कर दें। लेकिन अपनी आत्मा की हिफाजत हमें अपने परिवार और धन को भी दांव पर लगाकर करनी चाहिए।

- भाई-बंधुओं की परख संकट के समय होती है।

- स्त्री की असली परख धन के नष्ट हो जाने पर ही होती है।

- बिना कारण दूसरों के घर पर पड़े रहना कष्टों से भी बड़ा कष्ट है।

- मूर्खता बहुत से कष्टों का कारण बनती है।

- मनुष्य का विकास और विनाश उसके अपने व्यवहार पर निर्भर करता है।

- मूर्ख अपने घर में पूजा जाता, मुखिया अपने गांव में, परंतु विद्वान सर्वत्र पूजा जाता है।

- जिस प्रकार सभी पर्वतों पर मणि नहीं मिलती, सभी हाथियों के मस्तक में मोती उत्पन्न नहीं होता, सभी वनों में चंदन का वृक्ष नहीं होता, उसी प्रकार सज्जन पुरुष सभी जगहों पर नहीं मिलते हैं।

- जो मित्र आपके सामने चिकनी-चुपड़ी बातें करता हो और पीठ पीछे आपके कार्य को बिगाड़ देता हो, उसे त्याग देने में ही भलाई है। चाणक्य कहते हैं कि वह उस बर्तन के समान है, जिसके ऊपर के हिस्से में दूध लगा है परंतु अंदर विष भरा हुआ होता है।

- मूर्खता के समान यौवन भी दुखदायी होता है क्योंकि जवानी में व्यक्ति कामवासना के आवेग में कोई भी मूर्खतापूर्ण कार्य कर सकता है। परंतु इनसे भी अधिक कष्टदायक है दूसरों पर आश्रित रहना।

- बचपन में संतान को जैसी शिक्षा दी जाती है, उनका विकास उसी प्रकार होता है। इसलिए माता-पिता का कर्तव्य है कि वे उन्हें ऐसे मार्ग पर चलाएँ, जिससे उनमें उत्तम चरित्र का विकास हो क्योंकि गुणी व्यक्तियों से ही कुल की शोभा बढ़ती है।

- वे माता-पिता अपने बच्चों के लिए शत्रु के समान हैं, अच्छीजिन्होंने बच्चों को‍ शिक्षा नहीं दी। क्योंकि अनपढ़ बालक का विद्वानों के समूह में उसी प्रकार अपमान होता है जैसे हंसों के झुंड में बगुले की स्थिति होती है। शिक्षा विहीन मनुष्य बिना पूँछ के जानवर जैसा होता है, इसलिए माता-पिता का कर्तव्य है कि वे बच्चों को ऐसी शिक्षा दें जिससे वे समाज को सुशोभित करें।

- अधिक लाड़ प्यार करने से बच्चों में अनेक दोष उत्पन्न हो जाते हैं। इसलिए यदि वे कोई गलत काम करते हैं तो उसे नजरअंदाज करके लाड़-प्यार करना उचित नहीं है। बच्चे को डाँटना भी आवश्यक है।

- जो व्यक्ति अच्छा मित्र नहीं है उस पर तो विश्वास नहीं करना चाहिए, परंतु इसके साथ ही अच्छे मित्र के संबंद में भी पूरा विश्वास नहीं करना चाहिए, क्योंकि यदि वह नाराज हो गया तो आपके सारे भेद खोल सकता है। अत: सावधानी अत्यंत आवश्यक है।
चाणक्य का मानना है कि व्यक्ति को कभी अपने मन का भेद नहीं खोलना चाहिए। उसे जो भी कार्य करना है, उसे अपने मन में रखे और पूरी तन्मयता के साथ समय आने पर उसे पूरा करना चाहिए।

- जो लोग हमेशा दूसरों की बुराई करके खुश होते हो। ऐसे लोगों से दूर ही रहें। क्योंकि वे कभी भी आपके साथ धोखा कर सकते है। जो किसी और का ना हुआ वो भला आपका क्या होगा।

- जीवन में पुरानी बातों को भुला देना ही उचित होता है। अत: अपनी गलत बातों को भुलाकर वर्तमान को सुधारते हुए जीना चाहिए।

- अगर कोई व्यक्ति कमजोर है तब भी उसे हर समय अपनी कमजोरी का प्रदर्शन नहीं करना चाहिए।

- किसी भी व्यक्ति को जरूरत से ज्यादा ईमानदार नहीं होना चाहिए। बहुत ज्यादा ईमानदार लोगों को ही सबसे ज्यादा कष्ट उठाने पड़ते हैं।

- अपने ईमान और धर्म बेचकर कर कमाया गया धन अपने किसी काम का नहीं होता। अत: उसका त्याग करें। आपके लिए यही उत्तम है।

- जो व्यक्ति आपकी बीमारी में, दुख में, दुर्भिक्ष में, शत्रु द्वारा कोई संकट खड़ा करने पर, शासकीय कार्यों में, शमशान में ठीक समय पर आ जाए वही इंसान आपका सच्चा हितैषी हो सकता है।

- भगवान मूर्तियों में नहीं है, आपकी अनुभूति आपका इश्वर है, आत्मा आपका मंदिर है।

- जिस प्रकार एक सूखे पेड़ को अगर आग लगा दी जाये तो वह पूरा जंगल जला देता है, उसी प्रकार एक पापी पुत्र पुरे परिवार को बर्वाद कर देता है।

- सबसे बड़ा गुरु मन्त्र है : कभी भी अपने राज़ दूसरों को मत बताएं, ये आपको बर्वाद कर देगा।

- पहले पाच सालों में अपने बच्चे को बड़े प्यार से रखिये, अगले पांच साल उन्हें डांट-डपट के रखिये, जब वह सोलह साल का हो जाये तो उसके साथ एक मित्र की तरह व्यव्हार करिए, आपके व्यस्क बच्चे ही आपके सबसे अच्छे मित्र हैं।

- फूलों की सुगंध केवल वायु की दिशा में फैलती है, लेकिन एक व्यक्ति की अच्छाई हर दिशा में फैलती है।